Gyanspothindi एक हिंदी कंटेंट आधारित वेबसाइट है। जिस पर आपको तकनीक, विज्ञान, स्वास्थ्य और जीवन शैली से संबंधित जानकारियां हिंदी में शेयर की जाती हैं। इसके अलावा इस वैबसाइट पर प्रेरणात्मक कहानी, संघर्ष की कहानी, ऑटो बायोग्राफी भी शेयर की जाती हैं। जिसका एकमात्र उद्देश्य अपने देश के लोगों को प्रेरित करना है। अगर आप इस वैबसाइट के साथ बने रहते हैं, मेरा मतलब है कि अगर आप इस वैबसाइट पर लिखी गई पोस्ट को पड़ते हैं तो आप विज्ञान, और अपने जीवन से जुड़ी जानकारियों से अपडेट रहेंगे।

Sunday, January 5, 2020

Subconscious mind power॥ अवचेतन मन की वास्तविक्ता॥ Reality of subconcious mind.

अवचेतन मन की वास्तविक्ता (Subconscious mind power)


       दोस्तो मनुष्य का दिमाग़ मनुष्य के लिए किसी वरदान से कम नहीं और इसमें कोई संदेह नहीं कि मनुष्य अपने मन की शक्ति (mind power) से वो सब कुछ कर सकता वो सब कुछ पा सकता है जो वो पाना चाहता है। आज में आपको हमारे मन की ऐसी ही कुछ शक्तियों के बारे में बताने वाला हूं। तो आइए जानते हैं।

Subconscious-mind-meaning-in-hindi.  Subconscious-mind-power
Subconscious mind power

मन की शक्तियां (Subconscious mind power)


        क्या आप यकीन करेंगे कि दिमाग़ में इतनी शक्ति होती है कि ये एक लाइट बल्ब को भी जला सकती है। इसी तरह से हमारे दिमाग की की ऐसी शक्तियां है जिनपर यकीन करना भी मुश्किल है। अगर हम अपने दिमाग की तुलना सबसे पॉवरफुल चीज़ यानी कंप्यूटर से करे तो हम ये जानेंगे की कम्यूटर तो हमारे दिमाग के सामने कुछ भी नहीं हैं। कई आर्टिफिशियल टेस्ट में ये पता चला है कि हमारा दिमाग़ दुनियां के सुपर कंप्यूटर से तीस गुना ज्यादा तेज है।

  ये मोबाइल प्रोसेसर जैसी चीजों से भी ज्यादा तेज है और इस में ज्यादा चौंकने वाली बात भी नहीं है आखिर आज इन कंप्यूटर्स का आविष्कार इस दिमाग कि ही देन है। हालाकि ये पूरे दिमाग का केवल दो प्रतिशत ही होता है लेकिन ये पूरे शरीर की बीस प्रतिशत एनर्जी और ऑक्सीजन अकेले ही इस्तेमाल कर लेता है।

Subconscious mind meaning in hindi,. Subconscious mind qoutes
Subconscious mind power


    यही नहीं एक रीसर्च में ये प्रूफ किया गया है कि एक दिन में हमारे दिमाग़ में करीब 70000 विचार आते है जिनमे से 70% विचार नकरात्मक होते हैं।

100 में से 90% लोग क्यों सफल नहीं हो पाते?


  दोस्तो सपने सभी देखते है सभी सक्सेसफुल होना चाहते हैं, लेकिन क्या कारण है की दस परसेंट लोग ही सफलता को प्राप्त कर पाते हैं सामान्य सा कारण है दोस्तो कि वो दस परसेंट लोग directly या indirectly अपने subconscious mind power यानी अवचेतन मन को इस्तेमाल करना जानते हैं।

        Subconscious mind ये हमारे दिमाग का बहुत ही पॉवरफुल हिस्सा होता है। दोस्तो अगर हम अपने सपनों को अवचेतन मन तक पहुंचा दे तो उन्हें पूरा कर सकते हैं, यानी हम जो सोच सकते हैं उस रियल में भी कर सकते हैं, हमारे जो गोल्स है सपने हैं अगर आवचेतन में तक पहुंच जाए तो हम अपने गोल्स को पाने के लिए बिना किसी motivation के खुद मेहनत करने लगते हैं।

   जैसे अगर आप कॉलेज में टॉप करना चाहते हैं और ये बात आपके अवचेतन मन तक पहुंच जाए, तो आप एक टॉपर कि तरह ही मेहनत करने लगेंगे। अगर पड़ते वक्त आपकी आंखें दुखेगी या दर्द करेंगी फिर भी आप पड़ते रहोगे क्युकी आपका अवचेतन मन आपकी एनर्जी और फोकस को पड़ाई पर फिट करके रखेगा। 

 यही कारण होता है कि वो दस परसेंट लोग बड़ी बड़ी चुनौतियों से टकरा जाते है, अगर गिर जाते हैं या नाकामी का मुंह देखते है तो उदास नहीं होते बल्कि उनसे सबक लेते हैं। और वही बाकी 90% लोग गिरने के बाद उठने कि हिम्मत नहीं जुटा पाते। क्युकी वो जो सपने देखते हैं अवचेतन मन तक नहीं पहुंचा पाते, बल्कि एक बार नाकामी के बाद वो ये सोचते हैं कि वो ऐसा नहीं कर सकते, और वो इसे ही सच मान कर जीते हैं। अगर ये बात आपको समझ नहीं आई तो example से समझिए-

        हाथी का बच्चा जब छोटा होता है तो उसकी टांग को एक सामान्य सी रस्सी से बांध कर रखा जाता है वो उसे तोड़ने की बहुत कोशिश करता है लेकिन तोड़ नहीं पाता। और धीरे धीरे उसके अवचेतन मन में ये बात बैठ जाती है कि वो उसे नहीं तोड़ सकता और बड़ा होने पर भी वो उसी normal सी रस्सी से बांध रहता है। जबकि अब वो इतना ताकतवर है कि उसे आसानी से तोड़ सकता है। लेकिन वो ऐसा नहीं करता क्युकी कयी बार नाकामी के बाद उसकी इच्छाशक्ति कमज़ोर हो जाती है और वो हमेशा के लिए गुलाम बन कर रह जाता है।

अवचेतन मन एक खेत है 


  Dr Joseph merphy अपनी बुक 'The power of subconscious mind' में बताते हैं कि हमारा अवचेतन मन एक खेत कि तरह होता है। इसमें हम जैसा बीज बोते हैं ये हमें वेसा ही फल देता है। अगर आपके दिमाग तक नकरात्मक बातें (negetive thought) पहुंचेंगी तो ये आपको नकरात्मक फल देगा। लेकिन अगर आपके मन तक सक्रात्मक बातें (positive thought) पहुंचेंगी तो ये सक्रात्मक फल आपको देगा। 

   यानि अगर आपने सोच लिया कि आप सक्सेफुल हो सकते हैं तो निश्चित ही आप उसी प्रकार से महनत करने लगेंगे जिससे आप सफल हो सके। लेकिन अगर आप ये सोचते ही नहीं कि आप सफल हो सकते हैं तो फिर आप वो मेहनत नहीं कर पायेंगे जिससे आप सफल हो सके। हम जैसा सोचते है हमारा अवचेतन मन वैसा ही फल हमें देता है।


    इन बातों से ये तो समझ में आता है कि बड़ा काम वही कर सकता है जो बड़ा सोचता है। आशा करता हूं कि इस पोस्ट (Subconscious mind power) में दी गई जानकारी आपको पसंद आयी होगी।


      धन्यवाद।
  

1 comment: