Gyanspothindi एक हिंदी कंटेंट आधारित वेबसाइट है। जिस पर आपको तकनीक, विज्ञान, स्वास्थ्य और जीवन शैली से संबंधित जानकारियां हिंदी में शेयर की जाती हैं। इसके अलावा इस वैबसाइट पर प्रेरणात्मक कहानी, संघर्ष की कहानी, ऑटो बायोग्राफी भी शेयर की जाती हैं। जिसका एकमात्र उद्देश्य अपने देश के लोगों को प्रेरित करना है। अगर आप इस वैबसाइट के साथ बने रहते हैं, मेरा मतलब है कि अगर आप इस वैबसाइट पर लिखी गई पोस्ट को पड़ते हैं तो आप विज्ञान, और अपने जीवन से जुड़ी जानकारियों से अपडेट रहेंगे।

Tuesday, January 14, 2020

सुबह जल्दी उठने के आसान तरीके। How to wake up early in the morning.।। Morning routine.।

  सुबह जल्दी उठने के आसान तरीके। How to wake up early in the morning in Hindi. Morning routine.



दोस्तो हिंदी में एक कहावत है
               
                      "जो जागत है, वो पावत है,
                       जो सोवत है, वो खोवत है।"

      यानि कि जो जागता है वो ही पाता है, और जो सोता है वो पाता नहीं बल्कि खो देता है। अब यहां समझने वाली बात यह भी है कि यहां रात में नहीं बल्कि सुबह जागने के लिए कहा गया है। हम में से बहुत से लोग ऐसे होते है जो रात को देर से सोते है और सुबह देर से उठते है। हम में से कुछ ऐसे भी होते है जो अपनी इस आदत को बदलना चाहते है। क्युकी हम लोग अच्छे से समझते है कि हमारी ये आदत हमारी हैल्थ के लिए सही नहीं हैं। और हम सुबह जल्दी उठने का निश्चय भी करते है लेकिन उठ नहीं पाते।
क्युकी हमें ये तो पता होता है कि सुबह जल्दी उठना चाहिए लेकिन क्यूं उठना चाहिए, यह नहीं पता होता। इसी लिए हमारे दिमाग के पास सुबह उठने के लिए कोई वजह (reason) होनी चाहिए। आज आपको इस लेख (post) में पता चलने वाला है कि सुबह जल्दी क्यों उठना चाहिए इसके क्या फायदे है, और  कैसे उठना चाहिए।
subha-jaldi-kese-uthe.  Subha-jaldi-uthne-k-labh
Early morning wake up benifits in hindi


सुबह जल्दी उठने के फायदे 


      इंसान कि जिंदगी ज्यादा से ज्यादा 80 से 90 साल तक होती है अगर वो स्वस्थ है तो। लेकिन अगर एवरेज निकाले तो इंसान सिर्फ 60 से 70 साल तक ही जी पाता है। इसमें से उसकी आधी जिंदगी सोने में चली जाती है। लेकिन अगर आप अपनी नींद को सिर्फ दो घंटा कम करदो, यानी अगर आप सुबह 7 बजे उठते हो तो 5 बजे उठना शुरू करदो तो आप अपनी जिंदगी का ज्यादा वक्त जी पाओगे। कैलकुलेशन करें तो रोज़ दो घंटे यानी हफ्ते के (8×2) 16 घंटे महीने के (30×2) 60 घंटे और साल के (365×2) 730 घंटे आपके पास होंगे यानी कि पूरे तीस दिन (730÷24) यानी एक महीना एक्स्ट्रा होगा आपके पास साल में, वो भी सिर्फ 2 घंटे पहले उठने से।
subha-jaldi-kese-uthe.    Subha-jaldi-uthne-k-labh
Early morning wake up benifits in hindi

      अगर आप चाहें तो यही दो घंटे आपकी लाइफ बदल सकते हैं क्युकी ये तो हम सभी जानते है कि सुबह का जो वक्त होता है काफी प्रोडक्टिव होता है। यही वो वक्त होता है जब हमारा दिमाग काफी शांत होता है। अगर हम इस वक्त को योगा, वर्कआउट करने और ऐसी किताबें पड़ने में लगाए जो हमारे दिमाग़ को और बेहतर सोचने में मदद करे तो हमारी पूरा जीवन बदल सकता है।

सुबह देर से उठने के नुकसान


      अगर आप सुबह लेट उठे तो आप अपना दिन भी लेट शुरू करोगे लेकिन शाम तो शाम के टाइम पर ही होगी। शाम तक हमारा दिमाग़ और शरीर पूरी तरह से थक चुका होता है। इस समय कोई भी ऐसा काम जो हमें जरा भी बोरिंग लगता होगा उसे करने के लिए हमारा दिमाग़ बिल्कुल भी तैयार नहीं होता है। इस वक्त दिमाग़ रिलैक्स होना चाहता है इसीलिए हम या तो टीवी देखने बैठ जाते है या अपने मोबाईल पर फालतू के विडियोज़ देखने जिसे अगर साफ शब्दों में कहूं तो समय की पूरी तरह से बर्बादी। मतलब कि हम सुबह तो जल्दी उठ नहीं रहे और शाम के वक्त को सिर्फ बर्बाद कर रहे हैं। वहीं अगर आप जल्दी उठ जाते है तो आपकी शाम चाहे कैसी भी हो लेकिन आपके पास सुबह का वक्त होता है अपने जीवन को सही दिशा देने के लिए।


सुबह देर से उठने का स्वस्थ पर असर

subha-jaldi-kese-uthe.    Subha-jaldi-uthne-k-labh
Early morning wake up benifits in hindi

       सुबह देर से उठने का सबसे बड़ा कारण होता है रात को देर से सोना। सुबह देर से उठना हमारे लिए जितना नुकसान देह है उतना ही रात को देर से सोना है। रात को देर तक जागने से हमें दुबारा भूक लगने लगती है इस भूक में अगर हम कुछ खा लें तो वो सही से पच नहीं पाता जिसका असर हमारे पाचन तंत्र पर पड़ता है। और अगर हम कुछ ना खाए तो पेट खाली होने तथा भूक़ लगने की वजह से हमें कमजोरी महसूस होती है और पेट में एसिड कि मात्रा बड़ने लगती है। देर से सोने का असर सिर्फ हमारा पेट पर ही नहीं बल्कि लीवर, दिल और दिमाग पर भी पड़ता है और ब्लड प्रेशर तथा शुगर लेवल भी गड़बड़ा जाता है। डॉक्टर्स ये बताते है रात को देर से सोना और सुबह देर से उठना शुगर लेवल को बढ़ाता है जिससे मधुमेह का खतरा बड़ जाता है और अक्सर देर से उठने वाले लोगों में सिर में दर्द, चिड़चिड़ापन, काम में मन न लगना जैसी तकलीफें आम हो जाती हैं। वहीं सुबह जल्दी उठने वाले लोगों में इन तकलीफों कि मात्रा काफी कम होती है। वो ज्यादा प्रोडक्टिव होते हैं और खुश रहते हैं। इसीलिए शायद हर धर्म में भी सुबह जल्दी उठने पर महत्व दिया गया है।


सुबह जल्दी कैसे उठे

     
        हम ये तो समझ चुके है कि हमारे लिए सुबह उठना कितना जरूरी है और और सुबह ना उठने से हम क्या मिस कर सकते हैं। पर अब सवाल ये आता है कि सुबह उठा कैसे जाए, तो उसके लिए नीचे कुछ टिप्स दिए गए हैं -


1. आधा घंटा पहले उठना


       दोस्तो हमारा दिमाग़ ऐसा कोई भी काम करने को तैयार नहीं होता जिसमें उसकी स्ट्रेचिंग हो या उसे थोड़ा भी वर्क करना पड़े। अगर हम अपने उठने के वक्त से दो घंटा पहले उठना चाहते है तो हमें आदत बनाने के लिए सिर्फ आधा घंटा पहले उठना चाहिए। उससे अगले दिन और आधा घंटा पहले इसी तरह से चोथे दिन ही हम दो घंटा पहले उठ जाएंगे। हमें कोई भी आदत डालने से पहले बहुत थोड़े से शुरू करना चाहिए आसान शब्दों में कहूं तो अगर हमें रोज़ दो घंटा बुक्स पड़ने के लिए कहा जाए तो हमारा दिमाग बिल्कुल तैयार नहीं होगा। लेकिन वहीं एक और विकल्प दिया जाए सिर्फ आधे घंटे के लिए पड़ने का तो हमारा दिमाग इस पर आराम से राजी हो जाएगा। अगर हम रोज़ इस आधे घंटे में सिर्फ 10 मिनट बड़ाते जाए यानि सिर्फ आधा घंटा पड़ने से शुरुआत करें अगले दिन 10 मिनट और बड़ा दें और उससे अगले दिन और दस मिनट बड़ाते जाए तो कुछ ही दिनों में हमारी आधे घंटे की आदत 2 घंटे में बदल जायेगी और आदत बन जाने से हमारा दिमाग इस पर आसानी से एक्शन लेने लगेगा।


2.  सोने से पहले फोन का इस्तेमाल


       सुबह जल्दी उठने के लिए रात को जल्दी सोना भी ज़रूरी है इसलिए हमें रात को जल्दी सोना चाहिए और जल्दी सोने के लिए ऐसी चीजों से दूर रहना चाहिए जिनसे हमारी नींद कम होती है। रात को सोने के कम से कम एक घंटा पहले मोबाईल का इस्तेमाल तो बिल्कुल ही नहीं करना चाहिए। क्युकी एक रिसर्च में ये पाया गया है कि हमारे फोन से निकलने वाली रोशनी की वजह से हमारा दिमाग़ मेलाटोनिन हार्मोन रिलीज नहीं कर पाता। ये वो हार्मोन होता है जो हमें बताता है कि हमें सो जाना चाहिए। जब ये हार्मोन हमारी बॉडी में रिलीज होता है तो हमें नींद आने लगती है। इसलिए जल्दी सोने के लिए अपने फोन से एक घंटा पहले दूरी बना लें।


रात के समय पढ़ना

subha-jaldi-kese-uthe.     Subha-jaldi-uthne-k-labh
Early morning wake up benifits in hindi

        हमारे साथ अक्सर ऐसा होता है कि जब भी हम बोर होते हैं तो हमें नींद आने लगती है। जैसा कि मैने आपको बताया कि मोबाईल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए लेकिन अगर हम सोने से पहले कोई बुक पड़ना शुरू करदें तो कुछ ही समय बाद हमारा दिमाग़ थकने लगेगा और हमें नींद आने लगेगी। वहीं अगर हम कोई ऐसी किताब पड़े जो हमें बोरिंग लगती हो तथा जिसे समझने के लिए हमें अपने दिमाग का ज्यादा इसतेमाल करना पड़े तो हमें और भी जल्दी नींद आने लगेगी।


अपने दिमाग को वजह दें


       बहुत से लोग सुबह जल्दी सिर्फ इसीलिए नहीं उठ पाते क्यूंकि उनके पास उठने कि वजह ही नहीं होती। हमें सोते समय ये सोचना चाहिए अपने दिमाग को ये बताना चाहिए कि क्यों हम सुबह उठना चाहते हैं, हमें क्या फायदे हो सकते हैं और ना उठने के क्या नुकसान हो सकते हैं जो कि में आपको ऊपर बता चुका हूं।


        ये जो टिप्स हैं इनसे आपका दिमाग धीरे धीरे सुबह जल्दी उठने के महत्व को समझने लगता। हालांकि इसके महत्व को हम पहले से जानते हैं लेकिन कहीं ना कहीं हमारा दिमाग़ इसे मानने के लिए राजी नहीं होता लेकिन ये टिप्स धीरे धीरे हमारे दिमाग़ को ये बात समझा देती हैं। इनके अलावा भी एक टिप होती है और वो होती है जबरदस्ती अपने आप को उठाना यानी जिस वक्त भी आप उठना चाहते है आप जबरदस्ती उस वक्त पर उठे आपके दिमाग में कितना भी ख्याल आए कि 5 मिनट और सो लू लेकिन आप अपने दिमाग की एक ना सुनें इसके लिए आप अलार्म का इस्तेमाल करें। शुरू में आपको ऐसे उठना अच्छा नहीं लगेगा, कुछ दिन बाद ये आपको सामान्य लगने लगेगा और 21 दिनों के बाद ये आपकी आदत बन जाएगी।


      इस पोस्ट के द्वारा आपको सुबह क्यूं उठना चाहिए और कैसे उठना चाहिए के बारे में बताया गया है। आशा करता हूं ये लेख आपको पसंद आया होगा। इस पोस्ट को लिखने का मेरा उद्देश्य ये है कि इस जानकारी को ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाया जाए जिसमें आप इस पोस्ट को शेयर करके मेरा साथ दें।


      धन्यवाद !

No comments:

Post a Comment