Gyanspothindi एक हिंदी कंटेंट आधारित वेबसाइट है। जिस पर आपको तकनीक, विज्ञान, स्वास्थ्य और जीवन शैली से संबंधित जानकारियां हिंदी में शेयर की जाती हैं। इसके अलावा इस वैबसाइट पर प्रेरणात्मक कहानी, संघर्ष की कहानी, ऑटो बायोग्राफी भी शेयर की जाती हैं। जिसका एकमात्र उद्देश्य अपने देश के लोगों को प्रेरित करना है। अगर आप इस वैबसाइट के साथ बने रहते हैं, मेरा मतलब है कि अगर आप इस वैबसाइट पर लिखी गई पोस्ट को पड़ते हैं तो आप विज्ञान, और अपने जीवन से जुड़ी जानकारियों से अपडेट रहेंगे।

Saturday, February 29, 2020

पेड़ पौधों के बारे में आवश्यक जानकारी। Fact about trees in Hindi. पेड़ों पर निबंध।

पेड़ पौधों के बारे में आवश्यक जानकारी

दोस्तो इस पोस्ट में आप जानने वाले हैं हमारे जीवन में पेड़ों के महत्व के बारे में और अगर पेड़ ना हों तो क्या होगा। इसके अलावा आप जानेंगे पेड़ों के बारे में दिलचस्प जानकारी, चलिए शुरू करते हैं।

पेड़ों से हमें क्या लाभ होते हैं? 

पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी. Fact about trees in Hindi
पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी.

हमारे जीवन के लिए पेड़ कितने महत्वपूर्ण हैं ये बताने की आवश्यकता नहीं है। सब जानते हैं कि पेड़ो से हमें ऑक्सीजन मिलता है जिससे हम सांस ले पाते हैं। इसके अलावा भी पेड़ों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। क्यूंकि पेड़ो का कोई भी हिस्सा अनुपयोगी नहीं होता। बल्कि पेड़ों का प्रत्येक हिस्सा ऐसा होता है जो इंसानों के काम आ सके। जैसे पत्तियां, बीज, तना फल, फूल, सब हमारे काम में आते हैं यहां तक कि पेड़ कटने के बाद इसकी लकड़ी भी जलाने के काम में आती है।

1  पेड़ों से मिलती हैं हमें सांसे

  हम इंसानों को जीने के लिए कई चीजों की जरूरत होती है जिनमें से सबसे जरूरी हैं भोजन, पानी, और  ऑक्सीजन। हम सब जानते हैं कि ऑक्सीजन हमें पेड़ों से प्राप्त होती है। इसीलिए पेड़ नहीं तो इंसान नहीं।

2   पेड़ पर्यावरण को करते हैं शुद्ध

वैसे तो टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन को अत्यधिक सरल बना दिया है लेकिन इसके कारण हमें कई नुकसान भी देखने को मिल रहे हैं। जैसे मोटर वाहन से हमें अनेक फायदे हैं लेकिन इससे निकलने वाला धुआं हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है। इसी के साथ फैक्ट्रियों से निकलने वाला धुआ भी हमारे पर्यावरण को प्रभावित करता है। जिससे हमारे वायुमंडल में कई जहरीली गैसें तथा रसायन मिल जाते हैं। लेकिन पेड़ इनसे होने वाले अधिकतर नुकसानों को हम इंसानों तक नहीं आने देते। वीर इन जहरीली गैसों तथा रसायनों को वायुमण्डल से साफ करने में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं।

3  पेड़ हमारे स्वास्थ्य की करते हैं रक्षा

सूर्य की रोशनी हमारे लिए बहुत आवश्यक होती है। लेकिन सूर्य की किरणों के कई दुष्प्रभाव भी होते हैं। जिससे स्किन एलर्जी, स्किन कैंसर आदि बीमारियां होती हैं। लेकिन पेड़ पौधे हमें सूर्य की इन अल्ट्रावॉयलेट किरणों से बचाते हैं और हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करते हैं। एक रिसर्च में ये बात सामने आई है कि शहर में रहने वाले लोगों के मुकाबले गांव में रहने वाले लोग ज्यादा स्वस्थ होते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि गांव में प्रदूषण कम होता है और पेड़ों की संख्या ज्यादा होती है।

 4  भारत की आयुर्वेदिक दवाओं का आधार हैं पेड़ पौधे

दवाइयां, कपड़े, रोज़गार, सुरक्षा और भोजन पेड़ों से हमें कई फायदे हैं। भारत में आयुर्वेद को बहुत ही पुराना और हर बीमारी के इलाज में मददगार माना जाता है। आयुर्वेद में संपूर्ण इलाज प्राकृतिक साधनों से ही किया जाता है। सामान्य शब्दों में कहूं तो जड़ी बूटियां और पेड़ पौधे ही आयुर्वेद का आधार हैं जो हमें पेड़ पौधों से ही प्राप्त होती हैं। इनमें नीम, एलोवेरा, आंवला, हरड़ और बहेड़ा प्रमुख हैं।

5  पेड़ पौधे हमारे भोजन के मुख्य स्रोत हैं

पेड़ पौधे हमें सिर्फ ऑक्सीजन ही नहीं बल्कि फल, सब्जियाँ, भी प्रदान करते हैं। सामान्य शब्दों में कहूं तो गेहूं, चावल, सभी सब्जियां और सभी फल हमें पेड़ पौधों से ही मिलते हैं। हमारा भोजन हमें इन्हीं पेड़ पोधों से प्राप्त होता है।

6  रोजगार का साधन हैं पेड़

पेड़ो से हमें जो चीज़े मिलती हैं जैसे फल, सब्जी, गेहूं, चावल, लकड़ी इन सब की बाजार में अच्छी मांग होती है। पेड़ों की लकड़ी से फर्नीचर, घरेलू सामान, खेल का सामान आदि चीज़े बनाई जा सकती हैं। इसके अलावा कागज, रबड़ और पेंसिल जैसी चीजें हमें इन्हीं पेड़ों से प्राप्त होती हैं जो कि बड़े बड़े उद्योगों में पेड़ों की लकड़ी से बनाई जाती हैं।

 इन सब बातों का यही अर्थ निकलता है कि पेड़ हमें भोजन बाकी ज़रूरी चीज़े देने के अलावा रोज़गार भी देते हैं। बड़ी बड़ी कंपनियां का व्यापार इन्हीं पेड़ों पर निर्भर होता है। जो इनसे फर्नीचर, दवाइयां आदि सामान बनाकर बाज़ार में बेचती हैं और देश की अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाती हैं।

7  प्राकृतिक आपदाओं से पेड़ करते हैं हमारी सुरक्षा

पेड़ अपनी छाया से जमीन से जल वाष्पीकरण कम करने में मुख्य भूमिका निभाते हैं। जिससे जल का संरक्षण और शुद्धिकरण होता है। पेड़ पानी के संरक्षण के अलावा तूफान, भूकंप एवं बाढ़ जैसी स्थिती में भी हमारा बचाव करते हैं। ये बाढ़ की स्थति में मिट्टी के कटाव को रोकते हैं जिससे मिट्टी के उपजाऊ तत्व बहने से बच जाते हैं साथ ही बाढ़ से बचाव होता है।

8  बारिश के प्रमुख कारण है पेड़

जिस क्षेत्र में पेड़ पौधों की मात्रा अधिक होती हैं, वहां का मौसम में नमी होती है। क्यूंकि पेड़ पोधे अपने लिए पानी की पूर्ति जमीन के अंदर पानी को अपनी जड़ों द्वारा सोख कर करते हैं। इस क्रिया में पानी की कुछ मात्रा वाष्प बनकर हवा में मिल जाती है और वहां की हवा नम अर्थात ठंडी हो जाती है। ऐसे वायुमंडलीय इलाके से जब बादल गुजरते हैं तो वो वहीं बरसना शुरू कर देते हैं। ऐसे इलाकों में सूखे कि समस्या नहीं होती और अच्छी बारिश होती है।

9  धरती के तापमान को नियंत्रित रखते हैं पेड़

जैसा कि आप जान चुके हैं जिन इलाकों में पेड़ों कि संख्या अधिक होती है वहां के तापमान में नमी पाई जाती है। एक शोध में यह बात सामने आई है कि जिन शहरों में पेड़ थे वहां का तापमान कम पेड़ वाले शहरों की तुलना में 5 डिग्री तक कम था।

दोस्तो शहर से राज्य बनते हैं राज्य से मिलकर देश और पेड़ सिर्फ देश ही नहीं सम्पूर्ण प्रथ्वी के तापमान को इंसानों के रहने लायक बनाए हुए हैं। अगर पेड़ ऐसा न करें तो धरती पर कोई भी प्राणी जीवित नहीं बचेगा।



  सामान्य शब्दों में अगर कहूं तो प्रकृति पेड़ों को इसी लिए बनाया है ताकि प्राणी ज़िंदा रह पाए। अगर पेड़ नहीं होते तो हम इंसानों और जानवरों अर्थात किसी भी जीवित प्राणी का कोई अस्तित्व नहीं होता। इस दुनियां में हर चीज़ एक दूसरे पर निर्भर है। जैसे शाकाहारी प्राणी अपना भोजन पेड़ पोधों से प्राप्त करते हैं वहीं मांसाहारी प्राणी इन्हीं शाकाहारी प्राणियों से अपना भोजन प्राप्त करते हैं।

 अगर पेड़ पौधे न होते तो ?

पेड़ हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं ऊपर दी गई जानकारी से आशा करता हूं आप समझ गए होंगे। बिना पेड़ों के हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते । पेड़ों में ऐसी कोई चीज नहीं होती जिसका उपयोग में ना आ सके पेड़ों की पत्तियों से लेकर पेड़ों की जड़ों तक सब हम इंसानों के काम में आता है।
पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी. Fact about trees in Hindi
पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी


1  दोस्तो प्रत्येक जीवित प्राणी कार्बन डाइऑक्साइड गैस बाहर निकलते हैं। लेकिन पेड़ वातावरण से कार्बन डाईऑक्साइड जैसी जहरीली गैस सोख लेते हैं। अगर पेड़ न हों तो हमारे वायुमंडल में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा अधिक हो जाएगी। जिससे ग्लोबल वार्मिंग जैसे खतरे प्रथ्वी पर मंडराने लगेंगे।


2   दोस्तो पेड़ों की मौजूदगी से हमारे वायुमंडल से जहरीली गैसों का असर ख़तम होता है और इसी के साथ पेड़ ऑक्सीजन गैस बाहर निकलते हैं। जो हमारी प्रथ्वी के लिए बहुत जरूरी होती है। क्यूंकि प्रथ्वी पर मौजूद प्रत्येक जीवित प्राणी चाहें वो इंसान हो या जानवर सांस लेने के लिए ऑक्सीजन की आवश्यकता होती है। अगर पेड़ न हों तो प्रथ्वी से ऑक्सीजन ख़तम हो जाएगी और कोई भी प्राणी जीवित नहीं बचेगा।


3  दोस्तो पेड़- पोेधे हमारे भोजन का प्रमुख स्रोत हैं। पेड़ पोधो से हमें अन्न, सब्जी के साथ फल भी प्राप्त होते हैं और ऐसा नहीं है कि पेड़ों से सिर्फ शाकाहारी लोगों को भोजन प्राप्त  होता है बल्कि मांस खाने वाले प्राणी का भोजन भी कहीं ना कहीं पेड़ पौधों पर निर्भर करता है। अगर पेड़ ना हों तो शाकाहारी प्राणी के साथ साथ मांसाहारी प्राणी भी भूख से मर जाएगा। क्यूंकि मांसाहारी जिसका मांस खाकर जिंदा रहते हैं वो अपना पेट पेड़ पौधों से ही भरते हैं। इसीलिए जब पेड़ नहीं होंगे तो शाकाहारी जीव नहीं होंगे और जब ये जीव नहीं होंगे तो मांसाहारी किसे खाकर अपना पेट भरेंगे अतः वो भी जीवित नहीं रहेंगे।


4  हर पेड़ का तना अलग किस्म का होता है. किसी पेड़ का चिकना तो किसी का छालदार होता है, ये तना हम इंसानों के लिए बहुत उपयोगी होता है। पूरी दुनिया की जो अर्थव्यवस्था है उसका बड़ा हिस्सा इन्हीं पेड़ों पर निर्भर करता है। पेड़ के तनों से कई बड़ी कंपनियां अपना व्यापार करती हैं। सिर्फ तना ही नहीं बल्कि पत्तियों से लेकर फल तक, इन सबसे बड़े बड़े उद्योग लाभ अर्जित करते हैं। अगर पेड़ ना हों तो इनसे बनने वाली चीज़ें ख़तम हो जाएगी और एक कंपनी की अर्थव्यवस्था के साथ पूरे देश की और पूरे देश की अर्थव्यवस्था के साथ पूरी दुनियां की अर्थव्यवस्था प्रभावित हो जाएगी


5  दोस्तो हम सब जानते हैं कि पेड़ की जड़ें जमीन के काफी अन्दर तक फैली होती हैं ये जड़ें जमीन के अंदर मिट्टी का काफी हिस्सा पकड़कर रखती हैं। जिससे पेड़ को जमीन पर मजबूती के साथ खड़े रहने में बहुत सहायता मिलती है। लेकिन आपको बता दें कि पेड़ की जड़ें हमें कई प्राकृतिक आपदाओं से बचाती हैं। जड़ों द्वारा मिट्टी का बहुत सा हिस्सा कंट्रोल किया जाता है जो भूस्खलन को रोकने और बाढ़ में मिट्टी के बह जाने को नियंत्रित कर लेता है। पेड़ प्रकृति के साथ प्रथ्वी का संतुलन बनाए रखते हैं। अगर ये ना हों तो प्रकृति के कहर से हमें कोई नहीं बचा सकता।


6  बढ़ती जनसंख्या के साथ प्रथ्वी पर कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा भी बढ़ती जा रही है। जिससे प्रथ्वी का तापमान भी लगातार बड़ रहा है, दिन प्रतिदिन प्रथ्वी गर्म हो रही है। प्रथ्वी के गर्म होने से बड़े बड़े बर्फ के पहाड़ और ग्लेशियर पिघल रहे हैं। अगर ये ग्लेशियर इसी तरह पिघलते रहे तो समुद्र में पानी अधिक हो जाएगा और अगर ऐसा चलता रहा तो प्रथ्वी हम इंसानों के रहने लायक नहीं रहेगी। ऐसे में सिर्फ पेड़ पौधे ही हमारी मदद कर रहे हैं। क्यूंकि ये कार्बन डाइऑक्साइड को अपने अंदर लेकर और हवा में नमी डालकर लगातार प्रथ्वी के तापमान को संतुलन में बनाए हुए हैं।
(ये भी पढ़ें-हेडफोन से हो सकते हैं इन बीमारियों के शिकार)

वृक्षारोपण हमारे लिए क्यों आवश्यक हैं ?

 दोस्तो बढ़ती जनसंख्या के साथ प्रथ्वी का संतुलन लगातार बिगड़ता जा रहा है। क्यूंकि हम इंसानों द्वारा अपने स्वार्थ के लिए जंगलों को बर्बाद किया जा रहा है और पेड़ों को बिना वजह काटा जा रहा है। पेड़ों की लगातार कम होती संख्या हम सब के लिए गंभीर चिंता का विषय है।
पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी. Fact about trees in Hindi
पेड़-पौधों-के-बारे-में-आवश्यक-जानकारी


ये हरे भरे जंगल हमारे रक्षक हैं ये कुदरत की कई भयानक आपदाओं से हमें बचाते हैं। लेकिन अज्ञानता के कारण हम इन्हें ही नष्ट करते चले जा रहे हैं। हमें ये समझना होगा कि यदि वृक्ष या वन नहीं रहेंगे, तो हमारा जीवन भी नहीं रहेगा। बिना इन पेड़ पौधों के हम अपने जीवन की कल्पना भी नहीं कर सकते।

ऊपर दिए गए पेड़ पौधों के महत्व और उनकी ज़रूरत को समझ कर आप इतना तो समझ गए होंगे कि हमें पेड़ों ओर जंगलों को बचाने की जरूरत है। इसीलिए हमें वृक्षारोपण जैसे कार्यक्रमों में बड़ चड़कर हिस्सा लेना चाहिए। यदि आप ऐसा नहीं कर सकते तो कम से कम बिना किसी वजह के पेड़ों को ना काटें और हो सके तो अपने जीवन में कुछ पेड़ लगाकर प्रकृति को बचाने में सहयोग दें।

पेड़ों के बारे में दिलचस्प जानकारी


1  एक रिपोर्ट के अनुसार दुनियाभ़र में लगभग 30 खऱब 40 अऱब पेड़ है।

2  पेड़ धरती पर धरती की शुरुआत से ही है यानि जब प्रथ्वी पर किसी जीवन का कोई अस्तित्व नहीं था उस समय से ही पेड़ धरती पर मौजूद हैं

3  धरती पर मानवों के जन्म से लेकर अब तक हम 3 लाख करोड़ पेड़ काट चुके हैं. हर 2 second में एक फुटबाॅल के मैदान जितने जंगल काटे जा रहे हैं.


4. हर साल 5 अऱब पेड़ लगाए जा रहे है लेकिन हर साल 10 अऱब पेड़ काटे भी जा रहे हैं जो कि बहुत चिंताजनक है।


5   वैज्ञानिकों की मानें तो एक पेड़ 1 साल में 21.7 किलोग्राम काॅर्बनडाइ-ऑक्साइड गैस को अपने अंदर सोख लेता है।

6  एक पेड़ एक दिन में इतनी ऑक्सीजन बाहर छोड़ता है जितनी पूरे दिन में चार आदमी अपने अंदर ग्रहण करते हैं। मतलब कि एक पेड़ एक दिन में चार इंसानों को ऑक्सीजन देकर जिंदा रखता है।

7  पेड़ो की मोजुदगी धूल-मिट्टी के स्तर को 75% तक कम कर सकती है और 50% तक ध्वनि को कम करती हैं.

8  जो इलाका पेड़ो से घिरा होता है वह दूसरे इलाकों की तुलना में 9 डिग्री तक ठंडा रहता हैं.

9  पेड़ अपनी 10% खुराक मिट्टी से और 90% खुराक हवा से लेते है। ये सूर्य की किरणों की मदद से स्वयं अपना भोजन प्राप्त कर लेते हैं।


10  दोस्तो आपने अमेज़न के जंगलों के बारे में जरूर सुना होगा। दुनिया की 20% ऑक्सीजन अमेजन के जंगलो द्वारा पैदा की जाती हैं। ये जंगल दुनियां का सबसे बड़ा जंगल है।

11  पेड़ की जड़े बहुत नीचे तक जा सकती है. दक्षिण अफ्रिका में एक अंजीर के पेड़ की जड़े 400 फीट नीचे तक पाई गई थी।

12  सभी पेड़ों के मुकाबले पीपल सबसे ज्यादा ऑक्सीजन छोड़ने वाला पेड़ है।

13  पेड़ हमेशा ही ऊपर की तरफ बढ़ते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि जब हम जमीन में बीज को दबाते हैं तो वो सूर्य की किरणों के कारण सूर्य की दिशा पता कर लेते हैं और उसी तरफ बढ़ने लगते हैं।




     आशा करता हूं जो जानकारी आपको हमारी पोस्ट 'पेड़ पौधों के बारे में आवश्यक जानकारी' में दी गई है उसको समझने के बाद आप पेड़ों लगातार कम हो रही संख्या के बारे में गंभीरता से सोचेंगे और ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाकर अपना फ़र्ज़ पूरा करेंगे। अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो कम से कम इस पोस्ट को शेयर करके ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं, हो सकता है कि आप पेड़  लगा पाएं लेकिन आपके द्वारा शेयर कि गई इस पोस्ट को पढ़कर कोई और ये काम कर सके। में आपसे निवेदन करता हूं कि इस पोस्ट अपने सभी दोस्तों के साथ शेयर करें।

धन्यवाद्। 

No comments:

Post a Comment